23-05-2018
केन्द्र की कटौती के बावजूद मध्यप्रदेश ने बढ़ाया कर राजस्व - मुख्यमंत्री श्री चौहान         दीपक भारद्वाज मर्डर केस मामले में नितेश और बलजीत से पूछताछ         एडव‌र्ड्स सचिन तेंदुलकर की बल्लेबाजी मुरीद         कोर्ट फीस की बढ़ोतरी उचित-हाईकोर्ट         शिवराज से चर्चा के बाद जूडा की हड़ताल खत्म        
प्रादेशिक खबरें
तूफान में दबे चार और जवानों के शव बरामद
27-01-2017
नई दिल्ली। कश्मीर के गुरेज सेक्टर में बर्फीले तूफान में दबे चार और जवानों के शव बरामद हुए हैं। हिमस्खलन में अब तक एक मेजर समेत 15 सैनिक शहीद हो चुके हैं। सैन्य अफसरों ने गुरुवार को बताया कि गुरेज सेक्टर में बुधवार को आर्मी पोस्ट और पेट्रोल पार्टी पर हुए हिमस्खलन के मलबे से दस सैनिकों के शव निकाले गए हैं। वहीं सात सैनिकों को पहले ही सुरक्षित निकाल लिया गया था। सैन्य अफसरों का कहना है कि लापता सैनिकों को बचाने के लिए युद्ध स्तर पर ऑपरेशन जारी है। गुरुवार को भी गुरेज सेक्टर में कई जगह हिमस्खलन हुए, लेकिन किसी के हताहत होने की सूचना नहीं है। इससे पहले सेना की ओर से जारी एक बयान में बताया गया था कि बुधवार और गुरुवार को हुए हिमस्खलन में छह सैनिकों की जान गई है। खराब मौसम और भारी हिमपात के बीच राहत अभियान तुरंत शुरू कर दिया गया था। बुधवार को हिमस्खलन के बाद एक जूनियर कमिशंड ऑफिसर और छह जवानों को बचाया गया था। जबकि तीन सैनिकों के शव गुरुवार सुबह निकाले गए। उधर, बुधवार गुरेज सेक्टर में एक ही परिवार के चार सदस्य भी एक अन्य हिमस्खलन की भेंट चढ़ गए थे। प्रशासन ने नए हिमपात के चलते कश्मीर घाटी में कुछ स्थानों पर हिमस्खलन की चेतावनी जारी की है। इन क्षेत्रों में तीन दिन से रूक रूक कर हिमपात हो रहा है। - बीते साल 10 फरवरी को नॉर्थ ग्लेशियर में एवलांच की चपेट में आने से 19 मद्रास रेजीमेंट के 10 जवान शहीद हो गए थे। - लांस नायक हनुमनथप्पा को कई दिन बर्फ में दबे होने के बाद सुरक्षित निकाला गया था। हालांकि बाद में हॉस्पिटल में उनकी मौत हो गई। जम्मू-कश्मीर में हिमस्खलन के कारण बर्फ से दब कर 10 जवानों की मौत पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गहरा शोक जताया है। ट्वीट कर प्रधानमंत्री ने कहा, हमें जवानों की मौत से गहरा दुख हुआ है। राहत और बचाव कार्य के लिए हमने अधिकारियों को आदेश दिए हैं। रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर ने भी जवानों की मौत को लेकर शोक जताया है। हिमालय के ऊंचे हिस्सों में हिमस्खलन आम बात है, लेकिन ये तब और खतरनाक हो जाते हैं जब ऊंची चोटियों पर ज्यादा बर्फ जम जाती है। बर्फ परत दर परत जमती जाती है और बहुत ज्यादा दबाव बढ़ने से ये परतें खिसक जाती हैं और तेज बहाव के साथ नीचे की ओर बहने लगती हैं। इनके रास्ते में जो कुछ भी आता है उसे अपने साथ ले जाती हैं।
Bookmark and Share
10/03/2017 मुख्यमंत्री ने नरसिंहपुर जिले को खुले में शौच से मुक्त घोषित किया
10/03/2017 ताप्ती नदी को संरक्षित और प्रदूषणमुक्त करने का अभियान चलेगा
10/03/2017 जनपद स्तर पर महिला संरक्षण केन्द्र स्थापित होंगे
10/03/2017 जनपद स्तर पर महिला संरक्षण केन्द्र स्थापित होंगे
10/03/2017 हर जिले में लगेंगे महिला रोजगार, स्व-रोजगार मेले
10/03/2017 नर्मदा स्वच्छता यज्ञ में हर व्यक्ति की आहुति जरूरी
27/01/2017 तूफान में दबे चार और जवानों के शव बरामद
27/01/2017 कांग्रेस बोली- BJP से रिश्ता तोड़ें उद्धव
27/01/2017 संपति का 75 फीसदी हिस्सा दान करना चाहती हैं इंद्राणी ?
27/01/2017 मुख्यमंत्री निवास में ध्वजारोहण
27/01/2017 समृद्ध संस्कारित प्रदेश के निर्माण में करें सहयोग
27/01/2017 जनसंपर्क भवन में आयुक्त श्री राजन ने किया ध्वजारोहण
27/01/2017 बालाघाट में आजादी के बाद पहली बार फहराया महिला ने तिरंगा
27/01/2017 मंत्री श्री बिसेन ने उत्कृष्ट प्रदर्शन करने पर की ढाई लाख रूपये का पुरस्कार देने की घोषणा
27/01/2017 जिलों में हर्षोल्लास के साथ मनाया गया 68वाँ गणतंत्र दिवस
23/01/2017 नदियों का भविष्य सँवारें और माँ नर्मदा को बचाएँ
23/01/2017 नेतृत्व विकास शिविर 23 जनवरी को
23/01/2017 प्रदेश में शराब की बुराई से निपटने के लिए चलाया जाएगा अभियान
23/01/2017 छोटे ग्रामों-कस्बों से निकलती हैं खेल प्रतिभाएँ
23/01/2017 नि:शुल्क चिकित्सा शिविर का व्यापक प्रचार-प्रसार हो
23/01/2017 देश की मजबूती के लिये समाज की एकजुटता जरूरी
22/01/2017 अगले बजट सत्र में आवासहीनों को जमीन देने का कानून बनेगा
22/01/2017 मुख्यमंत्री ने किया शहीद भीमा नायक स्मारक का लोकार्पण
22/01/2017 28 जनवरी को सभी प्राथमिक-माध्यमिक स्कूलों में मिल बाँचे मध्यप्रदेश कार्यक्रम
22/01/2017 हँसते-हँसाते यूहीं गुनगुनाते चल देंगे चार कदम
Back | Next
- विज्ञापन -

Copyright 2018, TodayMP.com . All Rights Reserved.

Visits: 3621040