20-02-2018
केन्द्र की कटौती के बावजूद मध्यप्रदेश ने बढ़ाया कर राजस्व - मुख्यमंत्री श्री चौहान         दीपक भारद्वाज मर्डर केस मामले में नितेश और बलजीत से पूछताछ         एडव‌र्ड्स सचिन तेंदुलकर की बल्लेबाजी मुरीद         कोर्ट फीस की बढ़ोतरी उचित-हाईकोर्ट         शिवराज से चर्चा के बाद जूडा की हड़ताल खत्म        
राष्ट्रीय/अंतर्राष्ट्रीय
सपाई कुनबे में झगड़ा और तीन देवियों की भूमिका
05-01-2017
नई दिल्ली। सपाई इन दिनों असमंजस की स्थिति में दिखाई दे रहे हैं।समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ता मुलायम सिंह यादव के पारिवारिक लड़ाई के कारण ऊहापोह की स्थिति में हैं। मुलायम सिंह यादव के पारिवारिक लड़ाई के पीछे जहां शिवपाल यादव अौर अखिलेश यादव के अहम को माना जा रहा है, वहीं परिवार के तीन देवियों की भूमिका भी कम नहीं है। यूपी में जहां इस वक्त चुनाव प्रचार को लेकर मुख्यमंत्री अखिलेश यादव को धुआंधार कैंपेन करने में व्यस्त रहना चाहिए था तो वहीं वे इस वक्त इस उलझन में हैं कि पार्टी में का क्या होगा। तो वहीं, दूसरी तरफ समाजवादी पार्टी के संस्थापक और इसे अपने खून-पसीने से सींचनेवाले मुलायम सिंह आज अपने ही बेटे के साथ दो-दो हाथ करने पर उतारू हो गए। कुल मिलाकर उत्तर प्रदेश की हालत ये रही कि जहां इस वक्त सरकार के कामकाज और उसकी उपलब्धियां लोगों के बीच सुर्खियां बनना चाहिए थी, लेकिन उसकी जगह रोज अखबारों और टेलीविजन चैनल्स पर बाप-बेटे के झगड़े ने ले ली। साल 2012 के विधानसभा चुनाव में मायावती को सत्ता से बेदखल करने और समाजवादी पार्टी की भारी जीत के बाद मुलायम सिंह ने देश के सीटों के लिहाज से सबसे बड़े राज्य की बागडोर अपने बेटे अखिलेश के हाथों सौंप दी। एक पिता ने अपने तेज तर्रार और युवा बेटे पर पूरा भरोसा किया। लेकिन, सवाल ये उठता है कि जब सबकुछ ठीक चल रहा था तो अचानक पिता-पुत्र में ऐसा क्या हो गया कि तलवान खिंच गई और जिस पिता ने राज्य की सत्ता की बागडोर अपने बेटे को दी थी करीब साढ़े चार साल बाद उस पिता को अपनी ही पार्टी से अपने बेटे को निकालने के लिए मजबूर होना पड़ा। दरअसल, कभी-कभी सामने जो आता है वैसा होता नहीं और जैसा होता है वैसा सामने आता नहीं। ऐसा माना जा रहा है कि पिता और पुत्र के बीच आज जो दंगल हो रहा है उसका बीज बहुत पहले ही बो दिया गया। कहा ये भी जा रहा है कि समाजवादी परिवार में आज जो कुछ हो रहा है उसके पीछे तीन देवियों की बड़ी भूमिका है और वो देवियां है- साधना गुप्ता, अपर्णा और डिंपल यादव। दरअसल, समाजवादी पार्टी में कौमी एकता दल के विलय को लेकर शुरू हुई नाराजगी ने ऐसा रूप ले लिया कि समाजवादी पार्टी टूट के कगार पर पहुंच गई। सूत्रों के मुताबिक, यह लड़ाई से सिर्फ पिता और पुत्र के बीच ही नहीं बल्कि साल और बहू के बीच की भी है। ऐसा कहा जा रहा है कि गायत्री प्रजापति और दीपक सिंघल को लेकर जो बगावती तेवर अखिलेश ने अपनाए थे उसको लेकर अक्टूबर के पहले हफ्ते में मुलायम सिंह की दूसरी पत्नी साधना गुप्ता ने अखिलेश की पत्नि डिंपल यादव से लड़ाई की थी। साधना ने डिंपल को काफी भला-बुरा भी कहा था। उस वक्त सीएम अखिलेश एक सरकारी प्रोग्राम में शामिल होने गए थे। लेकिन, झगड़े की खबर सुनने के बाद वे जल्द ही प्रोग्राम छोड़ कर भी निकल गए थे। बात इतनी बढ़ गई थी कि अखिलेश यादव डिंपल और अपने बच्चों को मुलायम के घर से लेकर अपने सरकारी आवास पर आ गए। यहां 2 दिनों तक सीएम का परिवार रहा। इसके बाद 8 अक्टूबर को सीएम ने अपने 4 विक्रमादित्य मार्ग स्थित आवास पर गृह प्रवेश किया। इस पूजा में साधना गुप्ता शामिल नहीं हुईं। इसके बाद से ही अखिलेश सपा सुप्रीमो से अलग रहने लगे। बहरहाल सपा के इस घमासान में डिंपल भी बेचैन हैं। समाजवादी परिवार में छिड़ी संग्राम की जो एक और वजह मानी जा रही है वह है अखिलेश की तरफ से जारी सूची से अपर्णा यादव के नाम का नदारद होना। अपर्णा यादव मुलायम सिंह की दूसरी पत्नी साधना गुप्ता के बेटे प्रतीक गुप्ता की पत्नी है। अपर्णा ने अखिलेश के सौतेले भाई प्रतीक यादव की पत्नी और साधना की पुत्रवधू हैं। मुलायम की लिस्ट के बाद बगावती हुए अखिलेश ने 235 उम्मीदवारों की जो सूची जारी की, उसमें लखनऊ कैंट से अपर्णा यादव का नाम नदारद था। अपर्णा यादव हाल के दो वर्षों में राजनीतिक और सामाजिक गतिविधियों में बहुत तेजी से उभरी हैं। उन्हें बहुत पहले ही उम्मीदवार घोषित किया गया था और वह राजनीति में खब सक्रिय भी हैं। लेकिन, अखिलेश की सूची में अपर्णा का नाम न होना निसंदेह साधना गुप्ता के लिए पीड़ादायक था। हालांकि, अखिलेश ने कैंट में किसी को उम्मीदवार घोषित नहीं किया, लेकिन पहली सूची में बहू का नाम न देखकर उनकी नाराजगी बढऩी स्वाभाविक था।
Bookmark and Share
10/03/2017 पाकिस्तान में हिंदू महिला की हत्या
10/03/2017 चीन में ट्रंप ट्रेडमार्क वाली 38 वस्तुओं की बिक्री अनुमति
10/03/2017 भारत प्रशासित कश्मीर शब्द पर भारत की आपत्ति
10/03/2017 सैफुल्ला के पिता पर पूरे देश को नाज - राजनाथ
10/03/2017 साम्प्रदायिक ताकतों को दूर रखने के लिए कोई भी कदम - नरेश अग्रवाल
10/03/2017 भाजपा की बहुमत से सरकार बनने का अनुमान
27/01/2017 भारत शक्तिशाली देशों में छठे नंबर पर
27/01/2017 पाकिस्तानी असेंबली में सदस्यों के बीच जमकर मारपीट
27/01/2017 नाराज हुए मैक्सिको के राष्ट्रपति,रद की अमेरिकी यात्रा
23/01/2017 निर्भया के गैंगरेप : याचिका पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई
23/01/2017 दूरसंचार विभाग को ट्राइ का आधारयुक्त इकेवाइसी का सुझाव
23/01/2017 जाकिर नाइक - याचिका पर हाई कोर्ट में सुनवाई होगी
23/01/2017 डोनाल्ड ट्रंप और अमेरिकी मीडिया में जंग तेज
23/01/2017 पहले दस गुना ज्यादा होती थी बारिश
23/01/2017 पोप काम के आधार पर ही बनाएंगे ट्रंप पर राय
22/01/2017 जबरदस्‍त भूकंप के झटके से हिला पापुआ न्‍यू गिनी
22/01/2017 पाकिस्तान को उम्मीद जल्द रिलीज होंगी बॉलीवुड फिल्में
22/01/2017 हीराखंड एक्स. हादसे में 39 की मौत
22/01/2017 आतंकियों से मुठभेड़ में असम राइफल्स के दो जवान शहीद
22/01/2017 खाताधारकों को तीन वर्ष के लिए दो लाख रुपये का बीमा
22/01/2017 कांग्रेस और सपा सीट दोस्ती तोड़ने को तैयार
22/01/2017 तीन तलाक पर पर्सनल लॉ बोर्ड के बोल
17/01/2017 अखिलेश की हुई साइकिल
17/01/2017 सभी अर्ध सैनिक बलों को नोटिस भेजा
17/01/2017 भारत के खिलाफ आतंक फैलाना बंद नहीं करेगी आईएसआई
Back | Next
- विज्ञापन -

Copyright 2018, TodayMP.com . All Rights Reserved.

Visits: 3048789