24-02-2018
केन्द्र की कटौती के बावजूद मध्यप्रदेश ने बढ़ाया कर राजस्व - मुख्यमंत्री श्री चौहान         दीपक भारद्वाज मर्डर केस मामले में नितेश और बलजीत से पूछताछ         एडव‌र्ड्स सचिन तेंदुलकर की बल्लेबाजी मुरीद         कोर्ट फीस की बढ़ोतरी उचित-हाईकोर्ट         शिवराज से चर्चा के बाद जूडा की हड़ताल खत्म        
व्यापार
सौ प्रतिशत सीआरआर ने बढ़ाई बैंकों की मुसीबत
02-01-2017
नई दिल्ली : नोटबंदी के बाद बाजार में रुपये की तरलता कम करने के लिए आरबीआइ के एक निर्देश ने बैंकों की तरलता को संकट में डाल दिया। 15 सितंबर से 11 नवंबर तक की कुल जमा धनराशि पर 100 प्रतिशत सीआरआर (कैश रिजर्व रेशियो) जमा करने का निर्देश बैंकों पर भारी पड़ गया। इस अवधि का सीआरआर जमा करने के लिए पूर्वाचल बैंक को एसबीआइ (भारतीय स्टेट बैंक) से 1200 करोड़ रुपये ऋण लेना पड़ा। बैंकों के मुख्यालय ही आरबीआइ में सीआरआर जमा करते हैं। गोरखपुर में केवल पूर्वाचल बैंक का ही मुख्यालय है। नोटबंदी के बाद नवंबर में आरबीआइ ने यह निर्देश जारी किया कि 15 सितंबर से 11 नवंबर के बीच मांग एवं समय जमा (डिमांड एंड टाइम लाइबिलिटी) पर 100 प्रतिशत सीआरआर जमा करना है। इसके अंतर्गत बचत खाता, चालू खाता एवं फिक्स डिपाजिट आदि लगभग सभी जमा धनराशि आती है। अर्थात इस अवधि में बैंकों में जितनी धनराशि जमा हुई, वह सब आरबीआइ को भेजी जानी थी। इससे बैंकों के सामने बड़ा संकट खड़ा हो गया। एक वरिष्ठ अधिकारी के अनुसार यह संकट सभी बैंकों मेंआया, क्योंकि नोटबंदी के बाद बैंकों में 500 व 1000 के पुराने नोट बड़ी मात्र में जमा हुए। इससे जमा धनराशि में अभूतपूर्व वृद्धि हुई, लेकिन इसका क्रेडिट खातों को नहीं मिल पाया। ये नोट करेंसी चेस्ट मं0 जमा नहीं हो पाए। बैंकों के पास पर्याप्त रुपये थे, लेकिन उनके खाते खाली थे और आरबीआइ को भेजना था एकाउंट से। इसलिए ऋण लेना मजबूरी थी। इससे बैंकों को जबरदस्त नुकसान हुआ। इस अवधि में जितने रुपये जमा हुए वे आरबीआइ के पास चले गए। इससे बैंकों को बड़े ऋण स्वीकृत करने में दिक्कत आई, जो बैंक की मूल कमाई है। दूसरे नोटबंदी के दौरान बहुत से ऋण खाते पूरा जमा कर बंद कर दिए गए।1 इन खातों के चालू रहने से बैंक को जो ब्याज लाभ होता था, वह बंद हो गया। बैंकों के पास नोट तो पर्याप्त थे, लेकन वे 500 व 1000 के पुराने नोट थे। इससे वे उपभोक्ताओं को निकासी सीमा के अंदर भी पूरा भुगतान कर पाने में असमर्थ हुए। वे अपने ग्राहकों को पूरी तरह संतुष्ट नहीं कर पाए, लोगों का गुस्सा भी इस समय फूट पड़ा। जिससे बैंकों, खासकर पूर्वाचल बैंक की शाखाओं में जमकर बवाल हुआ। नोटबंदी के बाद से इस बैंक की लगभग एक तिहाई शाखाएं नोट के अभाव में बंद रखनी पड़ीं हैं। नोटबंदी के बाद बैंक की धनराशि में तो बेतहाशा वृद्धि हुई, जो करेंसी चेस्ट में जमा नहीं हो पाई। आरबीआइ का निर्देश आ गया कि 15 सितंबर से 11 नवंबर तक की मांग एवं समय जमा पर 100 प्रतिशत सीआरआर देना है। चूंकि रुपये खातों में क्रेडिट नहीं हो पाए थे, इसलिए ऋण लेना पड़ा। अब हमें इस पर ब्याज देना पड़ रहा है। क्या है सीआरआर सीआरआर (कैश रिजर्व रेशियो) आरबीआइ का महंगाई कम करने के उपायों में से एक है। इसके अंतर्गत सभी बैंकों को मांग एवं समय जमा पर न्यूनतम 03 प्रतिशत से 15 प्रतिशत तक धनराशि पाक्षिक आधार पर आरबीआइ के पास रखना होता है। समय-समय पर आरबीआइ इसका प्रतिशत घटाता-बढ़ाता रहता है। जब महंगाई बढ़ने लगती है तो इसका प्रतिशत बढ़ा दिया जाता है और मंदी आने लगती है तो इसका प्रतिशत घटा दिया जाता है। वर्तमान में सीआरआर 04 प्रतिशत है।
Bookmark and Share
10/03/2017 भारत में कतर एयरवेज एयरलाइन की योजना
10/03/2017 पूरे देश में इलेक्ट्रॉनिक टोल कलेक्शन प्रणाली में विलंब
10/03/2017 सस्ती वाई-फाई सेवा के लिए बनेंगे पीडीओ
27/01/2017 सुगर सब्सिडी खत्म कर सकती है सरकार
27/01/2017 विजय माल्या और 6 अन्य शेयर बाजार से प्रतिबंधित
27/01/2017 टाटा संस और साइरस मिस्त्री विवाद में कोई गड़बड़ी नहीं
23/01/2017 जमा हुई रकम की जांच कर रही है सरकार
23/01/2017 माइक्रोसॉफ्ट जनवरी में 700 कर्मचारियों की कर सकती है छटनी
23/01/2017 ट्रंप की नीति भारतीय इकोनॉमी के लिए अच्छी खबर
17/01/2017 आईएमएफ ने भारत का ग्रोथ अनुमान घटाकर 6.6 फीसदी किया
17/01/2017 100 रुपए से कम कीमत पर कीजिए हवाई सफर
13/01/2017 सोनो की कीमतों में लगातार तीसरे दिन तेजी
13/01/2017 खुदरा महंगाई दर दिसंबर में घटकर 3.41 फीसदी
09/01/2017 अंगूठे के इस्तेमाल से लेन-देन करेंगे भारतीय
09/01/2017 कष्ट के दिन खत्म अब बहाल हो रही आर्थिक गतिविधि: अरुण जेटली
09/01/2017 शेयर बाजार की सपाट शुरुआत
06/01/2017 सहवाग के निशाने पर आए लड़कियों के कपड़ों पर सवाल उठाने वाले लोग
06/01/2017 विश्व अर्थव्यवस्था में भारत की स्थिति ज्यादा बेहतर
06/01/2017 केंद्र और राय मिलकर करें प्रयास
06/01/2017 बैंक कर्मियों को बेहतर वेतन पैकेज मिलेगा
05/01/2017 डिजिटल पेमेंट के लिए कोई भी अतिरिक्त चार्ज न वसूलें
05/01/2017 मिस्त्री को निदेशक मंडल से हटाने भेजा गया नोटिस
05/01/2017 कोयले की उत्पादन क्षमता नहीं घटाएगी सरकार
04/01/2017 पेटीएम पेमेंट बैंक की सुविधा देना शुरू कर देगा
04/01/2017 डेबिट कार्ड के इस्तेमाल पर ट्रांजैक्शन शुल्क वसूलना शुरू
Back | Next
- विज्ञापन -

Copyright 2018, TodayMP.com . All Rights Reserved.

Visits: 3068894