23-05-2018
केन्द्र की कटौती के बावजूद मध्यप्रदेश ने बढ़ाया कर राजस्व - मुख्यमंत्री श्री चौहान         दीपक भारद्वाज मर्डर केस मामले में नितेश और बलजीत से पूछताछ         एडव‌र्ड्स सचिन तेंदुलकर की बल्लेबाजी मुरीद         कोर्ट फीस की बढ़ोतरी उचित-हाईकोर्ट         शिवराज से चर्चा के बाद जूडा की हड़ताल खत्म        
व्यापार
राज्यों ने कर्ज सीमा बढ़ाने की मांग की
05-12-2016
नई दिल्ली। बहुप्रतीक्षित वस्तु एवं सेवा कर पर विचार के लिए बुलायी गयी जीएसटी काउंसिल की बैठक में जीएसटी से जुड़े लंबित विषयों का समाधान तो नहीं निकला लेकिन रायों ने इस अवसर का फायदा उठाते हुए नोटबंदी का मुद्दा उठा दिया। रायों के वित्त मंत्रियों ने काउंसिल की बैठक से अलग वित्त मंत्री अरुण जेटली के साथ नोटबंदी और इसके राजस्व व विकास दर संभावित प्रभावों के बारे में चर्चा की। कई रायों ने नोटबंदी के मद्देनजर उनके राजस्व में गिरावट की आशंका जताते हुए उन्हें बाजार से अधिक उधार उठाने की सुविधा देने के लिए एफआरबीएम कानून में ढील देने की मांग की। एफआरबीएम एक्ट यानी राजकोषीय उत्तरदायित्व और बजटीय प्रबंधन कानून के मुताबिक राय सरकारें केंद्र की अनुमति के बगैर ऋण नहीं ले सकती हैं। चौदहवें वित्त आयोग ने फिलहाल केंद्र और राज्यों के लिए राजकोषीय घाटे की सीमा उनके सकल घरेलू उत्पाद के तीन-तीन फीसद के बराबर तय की है। इसका मतलब है कि कोई भी राय एफआरबीएम की बाध्यता के चलते केंद्र की अनुमति के बिना अपने जीएसडीपी के तीन प्रतिशत से अधिक राशि उधार नहीं ले सकता। वित्त मंत्री ने कहा कि जीएसटी काउंसिल की बैठक में नोटबंदी पर चर्चा नहीं हो सकती थी, इसलिए उन्होंने अधिकारियों को बैठक से बाहर कर राज्यों के वित्त मंत्रियों से इस संबंध में चर्चा की। अधिकांश रायों के वित्त मंत्रियों ने सत्ताधारी पार्टी के नजरिये के अनुसार ही बैठक में इस मुद्दे पर अपनी राय व्यक्त की। कुछ रायों ने एफआरबीएम के तहत अधिक राशि उधार लेने तथा वेज एंड मींस की व्यवस्था को उदार बनाने का सुझाव दिया।जीएसटी काउंसिल की बैठक के बाद पश्चिम बंगाल के वित्त मंत्री अमित मित्र ने कहा कि 500 रुपये और 1000 रुपये के पुराने नोट बंद होने से केंद्र के साथ-साथ राज्यों के राजस्व और जीडीपी की वृद्धि दर पर तीसरी और चौथी तिमाही में असर पड़ेगा। इसलिए रायों को यह चिंता है कि जो वादे उन्होंने सामाजिक क्षेत्र और ढांचागत क्षेत्र के संबंध में अपने बजट में किए हैं, उन्हें कैसे पूरा किया जाए। इसके लिए धनराशि की आवश्यकता होगी यह पूछे जाने पर कि क्या राज्यों ने अधिक मुआवजे की मांग की है, मित्र ने कहा कि वह आंकड़ा नहीं बता सकते लेकिन राजस्व में कमी की क्षतिपूर्ति का मुद्दा महत्वपूर्ण है।
Bookmark and Share
10/03/2017 भारत में कतर एयरवेज एयरलाइन की योजना
10/03/2017 पूरे देश में इलेक्ट्रॉनिक टोल कलेक्शन प्रणाली में विलंब
10/03/2017 सस्ती वाई-फाई सेवा के लिए बनेंगे पीडीओ
27/01/2017 सुगर सब्सिडी खत्म कर सकती है सरकार
27/01/2017 विजय माल्या और 6 अन्य शेयर बाजार से प्रतिबंधित
27/01/2017 टाटा संस और साइरस मिस्त्री विवाद में कोई गड़बड़ी नहीं
23/01/2017 जमा हुई रकम की जांच कर रही है सरकार
23/01/2017 माइक्रोसॉफ्ट जनवरी में 700 कर्मचारियों की कर सकती है छटनी
23/01/2017 ट्रंप की नीति भारतीय इकोनॉमी के लिए अच्छी खबर
17/01/2017 आईएमएफ ने भारत का ग्रोथ अनुमान घटाकर 6.6 फीसदी किया
17/01/2017 100 रुपए से कम कीमत पर कीजिए हवाई सफर
13/01/2017 सोनो की कीमतों में लगातार तीसरे दिन तेजी
13/01/2017 खुदरा महंगाई दर दिसंबर में घटकर 3.41 फीसदी
09/01/2017 अंगूठे के इस्तेमाल से लेन-देन करेंगे भारतीय
09/01/2017 कष्ट के दिन खत्म अब बहाल हो रही आर्थिक गतिविधि: अरुण जेटली
09/01/2017 शेयर बाजार की सपाट शुरुआत
06/01/2017 सहवाग के निशाने पर आए लड़कियों के कपड़ों पर सवाल उठाने वाले लोग
06/01/2017 विश्व अर्थव्यवस्था में भारत की स्थिति ज्यादा बेहतर
06/01/2017 केंद्र और राय मिलकर करें प्रयास
06/01/2017 बैंक कर्मियों को बेहतर वेतन पैकेज मिलेगा
05/01/2017 डिजिटल पेमेंट के लिए कोई भी अतिरिक्त चार्ज न वसूलें
05/01/2017 मिस्त्री को निदेशक मंडल से हटाने भेजा गया नोटिस
05/01/2017 कोयले की उत्पादन क्षमता नहीं घटाएगी सरकार
04/01/2017 पेटीएम पेमेंट बैंक की सुविधा देना शुरू कर देगा
04/01/2017 डेबिट कार्ड के इस्तेमाल पर ट्रांजैक्शन शुल्क वसूलना शुरू
Back | Next
- विज्ञापन -

Copyright 2018, TodayMP.com . All Rights Reserved.

Visits: 3622903