19-12-2018
केन्द्र की कटौती के बावजूद मध्यप्रदेश ने बढ़ाया कर राजस्व - मुख्यमंत्री श्री चौहान         दीपक भारद्वाज मर्डर केस मामले में नितेश और बलजीत से पूछताछ         एडव‌र्ड्स सचिन तेंदुलकर की बल्लेबाजी मुरीद         कोर्ट फीस की बढ़ोतरी उचित-हाईकोर्ट         शिवराज से चर्चा के बाद जूडा की हड़ताल खत्म        
प्रादेशिक खबरें
एक परिवार के रूप में दिख रही दुनिया - शिवराज सिंह चौहान
28-04-2016
भोपाल : बहुत पहले मैंने श्री बाशम की पुस्तक ' द वण्डर दैट वाज इण्डिया' पढ़ी थी। पुस्तक भारत की अदभुत विशेषताओं पर प्रकाश डालती है। डॉ. ईश्वरी प्रसाद भी अनेकता में एकता की भारतीय संस्कृति को प्रतिष्ठापित करते हैं। आशय यह कि हमारे देश में ऐसी कई चीजें हैं जो दुनिया में कहीं नहीं है। भारतीय संस्कृति का यही विराट स्वरूप इन दिनों महाकाल की नगरी उज्जैन में सिंहस्थ महाकुंभ में देखने को मिल रहा है। यहाँ सारी दुनिया एक परिवार के रूप में दिखाई दे रही है। अपना देश और इसकी संस्कृति ऐसी है जो सब विचारों का आदर करती है। कोई कहता है मैं साकार को मानता हूँ, मूर्ति पूजा करता हूँ। दूसरों ने तर्क दिया कि भगवान मूर्ति में कैसे आ सकते हैं, वो तो सृष्टि के कण-कण में विराजमान हैं। एक विचार कहता है कि साकार को नहीं मानते तो निराकार को मानो, इसमें भी कोई आपत्ति नहीं है। यह भारत की ही धरती है, जिसमें सभी विचारों का आदर है। यह सब चीजें मैं उज्जैन की पावन धरती पर देखकर आया हूँ। सिंहस्थ में एक से एक संत विराजमान हैं। वहाँ का दृश्य देखकर मैं अभिभूत हो गया। एक बात मैं आप सभी को बताना चाहता हूँ कि वहाँ द्वैतवादी हैं, अद्वैतवादी हैं और विशिष्टाद्वैतवादी भी हैं। इतने अलग-अलग तरह के संत हैं। मुझे लगा कि भारत में असमानता की बात कहीं नहीं है। सब साथ चल रहे-सब साथ रह रहे हैं। अलग-अलग धाराएँ सब आकर उज्जैन में इकट्ठी हो गयी हैं। वहाँ सदभाव और समरसता साक्षात है। एक वातावरण उपस्थित है, जिसमें कोई छोटा-बड़ा नहीं है। श्रेष्ठता और अहमन्यता का भाव देखे नहीं मिल रहा है। सब भूतभावन भगवान श्री महाकाल की शरण में हैं। सबके मन में एक ही विचार है कि मेरा नहीं, सबका कल्याण हो। यहाँ जब मैं भण्डारों में गया तो सब, अन्न क्षेत्रों में बराबरी से प्रसादी पा रहे हैं। जात-पाँत बेमानी हो गई है, श्रद्धा और सेवा सर्वोपरि। अदभुत दृश्य है। कोई नहीं पूछता भोजन बनाने वाले कौन हैं, जो परोसने वाले हैं वो कौन हैं, लाइन लगी है, लोग बैठ रहे हैं। काहे की असमानता। यही असली हिन्दुस्तान की धरती है। यहाँ केवल देशी भक्त ही नहीं बल्कि बड़ी संख्या में विदेशी भक्त भी आये हैं। उन्हें देशी परिधान में सज-धज कर, तिलक लगाकर, हरे-रामा, हरे-कृष्णा का भजन कर आनंदित होते देख मुझे लगा कि यही है वसुधैव कुटुम्बकम्। अयं निजो परो वेति गणना लघुचेतसाम्। उदारचरितानां तु वसुधैव कुटुम्बकम्॥ यह मेरा है, यह तेरा है, यह सोच छोटे दिल वालों की होती है, जो विशाल हृदय वाले होते हैं वो कहते हैं सारी दुनिया ही एक परिवार है। एक चेतना सब में निवास करती है जिसका जीवंत दृश्य आस्था और विश्वास के समागम सिंहस्थ में पूरी तरह साकार हो रहा है। यह सिंहस्थ बिरला है। अमृत की अवधारणा मेरे विचार में मानवता के कल्याण की दिशा में एकमत से आगे बढ़ना है। हम यही कोशिश वैचारिक अनुष्ठानों के माध्यम से कर रहे हैं। मुझे विश्वास है कि आज की समस्याओं के निदान का अमृत विचार इस मंथन से हम हासिल कर पायेंगे।
Bookmark and Share
10/03/2017 मुख्यमंत्री ने नरसिंहपुर जिले को खुले में शौच से मुक्त घोषित किया
10/03/2017 ताप्ती नदी को संरक्षित और प्रदूषणमुक्त करने का अभियान चलेगा
10/03/2017 जनपद स्तर पर महिला संरक्षण केन्द्र स्थापित होंगे
10/03/2017 जनपद स्तर पर महिला संरक्षण केन्द्र स्थापित होंगे
10/03/2017 हर जिले में लगेंगे महिला रोजगार, स्व-रोजगार मेले
10/03/2017 नर्मदा स्वच्छता यज्ञ में हर व्यक्ति की आहुति जरूरी
27/01/2017 तूफान में दबे चार और जवानों के शव बरामद
27/01/2017 कांग्रेस बोली- BJP से रिश्ता तोड़ें उद्धव
27/01/2017 संपति का 75 फीसदी हिस्सा दान करना चाहती हैं इंद्राणी ?
27/01/2017 मुख्यमंत्री निवास में ध्वजारोहण
27/01/2017 समृद्ध संस्कारित प्रदेश के निर्माण में करें सहयोग
27/01/2017 जनसंपर्क भवन में आयुक्त श्री राजन ने किया ध्वजारोहण
27/01/2017 बालाघाट में आजादी के बाद पहली बार फहराया महिला ने तिरंगा
27/01/2017 मंत्री श्री बिसेन ने उत्कृष्ट प्रदर्शन करने पर की ढाई लाख रूपये का पुरस्कार देने की घोषणा
27/01/2017 जिलों में हर्षोल्लास के साथ मनाया गया 68वाँ गणतंत्र दिवस
23/01/2017 नदियों का भविष्य सँवारें और माँ नर्मदा को बचाएँ
23/01/2017 नेतृत्व विकास शिविर 23 जनवरी को
23/01/2017 प्रदेश में शराब की बुराई से निपटने के लिए चलाया जाएगा अभियान
23/01/2017 छोटे ग्रामों-कस्बों से निकलती हैं खेल प्रतिभाएँ
23/01/2017 नि:शुल्क चिकित्सा शिविर का व्यापक प्रचार-प्रसार हो
23/01/2017 देश की मजबूती के लिये समाज की एकजुटता जरूरी
22/01/2017 अगले बजट सत्र में आवासहीनों को जमीन देने का कानून बनेगा
22/01/2017 मुख्यमंत्री ने किया शहीद भीमा नायक स्मारक का लोकार्पण
22/01/2017 28 जनवरी को सभी प्राथमिक-माध्यमिक स्कूलों में मिल बाँचे मध्यप्रदेश कार्यक्रम
22/01/2017 हँसते-हँसाते यूहीं गुनगुनाते चल देंगे चार कदम
Back | Next
- विज्ञापन -

Copyright 2018, TodayMP.com . All Rights Reserved.

Visits: 5501349